Tuesday, January 11, 2011

तिरंगा गुटखा तिरंगे और भारत की अस्मिता का अपमान है - आज़ाद पुलिस



तिरंगा भारत की अस्मिता और स्वाधीनता का प्रतीक है. आज़ादी के काफी वर्षों बाद आम जनता को इस बात की स्वतंत्रता दी गयी है कि हर भारतीय नागरिक झंडे को फहरा सकता है. किन्तु इसके साथ यह शर्त है कि तिरंगे का किसी भी प्रकार अपमान न हो इसके लिए नियम पहले से ही तय किये गए हैं,... तिरंगा फहराने और राष्ट्रगान के भी नियम तय किये गए हैं जिसका संक्षिप्त विवरण निम्न प्रकार है -
- आजादी से ठीक पहले 22 जुलाई, 1947 को तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में स्वीकार किया गया। तिरंगे के निर्माण, उसके साइज और रंग आदि तय हैं।
- फ्लैग कोड ऑफ इंडिया के तहत झंडे को कभी भी जमीन पर नहीं रखा जाएगा।
- उसे कभी पानी में नहीं डुबोया जाएगा और किसी भी तरह नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। यह नियम भारतीय संविधान के लिए भी लागू होता है।
- कानूनी जानकार डी. बी. गोस्वामी ने बताया कि प्रिवेंशन ऑफ इन्सल्ट टु नैशनल ऑनर ऐक्ट-1971 की धारा-2 के मुताबिक, फ्लैग और संविधान की इन्सल्ट करनेवालों के खिलाफ सख्त कानून हैं।
- अगर कोई शख्स झंडे को किसी के आगे झुका देता हो, उसे कपड़ा बना देता हो, मूर्ति में लपेट देता हो या फिर किसी मृत व्यक्ति (शहीद हुए आर्म्ड फोर्सेज के जवानों के अलावा) के शव पर डालता हो, तो इसे तिरंगे की इन्सल्ट माना जाएगा।
- तिरंगे की यूनिफॉर्म बनाकर पहन लेना भी गलत है।
- अगर कोई शख्स कमर के नीचे तिरंगा बनाकर कोई कपड़ा पहनता हो तो यह भी तिरंगे का अपमान है।
- तिरंगे को अंडरगार्मेंट्स, रुमाल या कुशन आदि बनाकर भी इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।

फहराने के नियम
- सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच ही तिरंगा फहराया जा सकता है।
- फ्लैग कोड में आम नागरिकों को सिर्फ स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर तिरंगा फहराने की छूट थी लेकिन 26 जनवरी 2002 को सरकार ने इंडियन फ्लैग कोड में संशोधन किया और कहा कि कोई भी नागरिक किसी भी दिन झंडा फहरा सकता है, लेकिन वह फ्लैग कोड का पालन करेगा।
- 2001 में इंडस्ट्रियलिस्ट नवीन जिंदल ने कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा था कि नागरिकों को आम दिनों में भी झंडा फहराने का अधिकार मिलना चाहिए। कोर्ट ने नवीन के पक्ष में ऑर्डर दिया और सरकार से कहा कि वह इस मामले को देखे। केंद्र सरकार ने 26 जनवरी 2002 को झंडा फहराने के नियमों में बदलाव किया और इस तरह हर नागरिक को किसी भी दिन झंडा फहराने की इजाजत मिल गई।

राष्ट्रगान के भी हैं नियम
- राष्ट्रगान को तोड़-मरोड़कर नहीं गाया जा सकता।
- अगर कोई शख्स राष्ट्रगान गाने से रोके या किसी ग्रुप को राष्ट्रगान गाने के दौरान डिस्टर्ब करे तो उसके खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ इन्सल्ट टु नैशनल ऑनर ऐक्ट-1971 की धारा-3 के तहत कार्रवाई की जा सकती है।
- ऐसे मामलों में दोषी पाए जाने पर अधिकतम तीन साल की कैद का प्रावधान है।
- प्रिवेंशन ऑफ इन्सल्ट टु नैशनल ऑनर ऐक्ट-1971 का दोबारा उल्लंघन करने का अगर कोई दोषी पाया जाए तो उसे कम-से-कम एक साल कैद की सजा का प्रावधान है।

लेकिन आज तिरंगे की अस्मिता और सम्मान को जैसे भुला दिया गया है .... तुष्टीकरण की नीतियों ने चंद लोगों के हितार्थ तिरंगे का अपमान किसी को दिखाई नहीं दे रहा है. इसका उदाहरण अभी श्रीनगर में लाल चौक पर तिरंगा फहराने को ले कर हो रहे विवाद में साफ़ दिखाई दे रहा है. 
तिरंगे का अपमान और भी रूपों में सामने आया है. जहाँ तम्बाकू और गुटखे को निकृष्ट और जीवन के लिए घातक माना गया है वहीँ  तिरंगा नाम के गुटखे का सरकार की अनुमति से लगातार निर्माण  और बिक्री की जा रही है, गुटखे जैसी निकृष्ट चीज़ का नामकरण तिरंगे के नाम पर रखना तिरंगे का सरासर अपमान है, जब कि गुटखा खाने के बाद ये लोगों के पैरों के नीचे आता है और लोग थूकते भी हैं... यह तिरंगे का अपमान नहीं तो और क्या है. आज़ाद पुलिस को तिरंगे के नाम पर गुटखे को स्वीकृति देने के लिए और किसी तरह की रोक अथवा नाम बदलने के लिए प्रयास न करने के लिए घोर आपत्ति है. इसे तत्काल बंद होना चाहिए. 

"It will be necessary for us Indians -- Hindus, Muslims, Christians, Jews, Parsis and all others to whom India is their home -- to recognize a common flag to live and die for."
-- Mahatma Gandhi's quote on our Indian flag

1 comments:

gramin bank said...

keep continue your efforts

Post a Comment

एक तिनका जो डूबते देश को बचाने में लगा है... क्या आप साथ हैं?